800 साल पुरानी ब्रिटेन की सबसे अमीर कैंब्रिज यूनिवर्सिटी में तनख्वाह देना मुश्किल, सरकार से मांगी मदद

ब्रिटेन के सबसे बड़े और अमीर उच्च शिक्षा संस्थानों में से एक कैंब्रिज यूनिवर्सिटी पर भी कोरोना महामारी का असर देखने को मिल रहा है। दरअसल यूनिवर्सिटी महामारी के चलते वित्तीय संकट से जूझ रही है और उसके सामने अपने कर्मचारियों को सैलरी देने का संकट पैदा हो गया है। डेली मेल की एक रिपोर्ट के मुताबिक सालाना 21 हजार करोड़ खर्च करने वाली इसयूनिवर्सिटी ने सरकार से मदद मांगीहै।

विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर प्रोफेसर स्टीफन टूप ने महामारी की वजह से संस्था को करोड़ों पाउंड का नुकसान होने की आशंका जताई है। इस बारे में उन्होंने सभी कर्मचारियों और स्टूडेंट्स को एक ईमेल में बताया कि वेतन रुकने और कटौती जैसी स्थिति से बचने के लिए वह सरकार से सहायता की उम्मीद कर रहे हैं।

अंतरराष्ट्रीय स्टूडेंट्स की संख्या में आई गिरावट

उन्होंने यह भी बताया कि अगला शैक्षणिक साल यूनिवर्सिटी के लिए तनावपूर्ण रह सकता है। दरअसल, महामारी की वजह से अंतरराष्ट्रीय स्टूडेंट्स की संख्या में आई गिरावट की वजह से विश्वविद्यालय को यह वित्तीय संकट झेलना पड़ रहा है। अपने ईमेल में प्रोफेसर टूप ने यह भी लिखा कियूनिवर्सिटी में फंड की कमी के कारण और लम्बे समय चलने वालीआर्थिक मंदी की वजह से विश्वविद्यालय में महत्वपूर्ण बदलावों की आवश्यकता होगी।

कैंब्रिज में सैलरी कट और टेम्पररी स्टाफ को हटाने को लेकर बीते दो महीनों से प्रदर्शन भी चल रहे है

इस सालऑनलाइन लेक्चरर्स लेगी यूनिवर्सिटी
पिछले हफ्ते ही यूनिवर्सिटी ने इस पूरे वर्ष ऑनलाइन लेक्चरर्स आयोजित करने का फैसला लिया था। इसके बाद अब 800 साल पुरानी इस यूनिवर्सिटी में कई तरह की खर्च कटौती को लेकर भी विश्लेषण किया जा रहा है। आंकड़ों के मुताबिक सोशल डिस्टेंस जैसे हालात सितंबर तक रहने पर 5 में से 1 स्टूडेंट्स ने इस साल पढ़ाई ड्राप करने का फैसला किया है।
विशेषज्ञों के मुताबिक यदि ऐसा होता है तो ब्रिटेन के विश्वविद्यालयों को करीब 760 मिलियन पाउंड का नुकसान हो सकता है। वही इस बारे में जब प्रधानमंत्री से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि उम्मीद है कि अगले साल तक सभी विश्वविद्यालयों में क्लासरूम पढ़ाई हो सकेंगी।

कैंब्रिज की कुल संपदा करीब 12 अरब, ट्रिनिटी सबसे अमीर
2018 के अकाउंट्स के हिसाब से कैंब्रिज की सेंट्रल यूनिवर्सिटी औरकुल 31 कॉलेजो की कुल संपदा 11.9 बिलियन थी। इसमें सेंट्रल यूनिवर्सिटी की संपदा4.9 बिलियन और कॉलेजों की संपदा 6.9 बिलियन पाउंड बताई गई थी।मौजूदा समय में कैंब्रिज के केंद्रीय विश्वविद्यालय के रखरखावजमा फंड (एंडॉवमेंट फंड) 3.4 बिलियन पाउंड का है। यूनिवर्सिटी की तमाम गतिविधियों में सालाना2.3 बिलियन पाउंड खर्च किया जाता है।
यूनिवर्सिटी के पास 5.2 बिलियन पाउंड की कुल संपत्ति है, जिसमें अचल संपत्तियां भी शामिल हैं।कैंब्रिज में ट्रिनिटी कॉलेज की संपदा 1.4 बिलियन पाउंड है और यह सभी 31 कॉलेजों में सबसे अमीर है। इसके बाद 780 मिलियन पाउंड वाला सेंट जॉन्स कॉलेज, 110 मिलियन पाउंड संपदा वाला क्वीन्स कॉलेज है। सबसे कम संपदा क्लैयर ऑल कॉलेज की है जिसके पास कुल 33 मिलियन पाउंड का फंड है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Cambridge University, facing financial crisis in times of epidemic due to lack of incoming foreign students, recommends government support

Rate this news please

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

WhatsApp chat